शब्द विचार
शब्द -दो या दो से अधिक वर्णो के सार्थक समूह को शब्द कहते हैं।
जैसे -कमल, नयन, भवन।

पद-जिन शब्दों के द्वारा सार्थक वाक्य की रचना होती है। उन्हें पद कहते हैं।

शब्दों के भेद -शब्द के दो भेद होते है।
1-सार्थकः-जिनका कुछ अर्थ निकले उन्हें सार्थक कहते हैं।
कमल, इन्दु।

2-निरर्थकः-जिनका कुछ अर्थ नहीं निकालता उन्हें निरर्थक कहते हैं।

शब्दों का वर्गीकरण -इसका वर्गीकरण चार आधारो पर किया जा सकता है।

1-उत्पत्ति के आधार पर -शब्द के चार भेद होते है।

1-तत्सम 2-तदभव 3-देशज शब्द 4-विदेशी शब्द

1-तत्सम=उसके सामान अर्थात् जो संस्कृत के समान प्रयोग किया जाता है।
उदाहरण =नृत्य, रात्रि, मौलिक, मातुल, पुष्प, अग्नि, स्वर्ण, आमृ, कुम्भकार, कपोत, गोधूम, जिह्वा, आलस्य, उष्ट्र, घृत, धैर्य, बिन्दु,दुग्ध,अक्षि,,अश्रु, तृण, मंडूक, कपाट, उत्साह, अमूल्य,ग्राहक, श्रावण, हस्ती, स्मरण, श्वसुर, हर्ष, कच्चपूरिका, कज्जल, गोपाल, हरिद्रा(हल्दी),हस्त।

2-तदभव=उससे उत्पन्न, अर्थात जो संस्कृत से उत्पन्न होते हैं।

3-देशज शब्द =जो शब्द क्षेत्रीय या स्थानीय बोलियो के कारण हिन्दी भाषा में प्रयोग किया जाता है। अथवा जिनका हमें ज्ञान नहीं होता है कि वे किस भाषा से लिये गये हैं।
उदाहरण =खिङकी,बङबङाना ,पगडी
लोटा, डिब्बा, लकङी, छटपटाना आदि।

4-विदेशी शब्द =जो शब्द विदेशी भाषाओं से ज्यो के त्यो अथवा परिवर्तित रूप में हिन्दी में प्रयोग होते हैं,उसे विदेशी शब्द कहते हैं
उदाहरण =स्टेशन,रेफ्रिजरेटर, डाँक्टर, आपरेशन, टेलीफोन, पॉलिसी, जलेबी।

इसके अतिरिक्त कुछ और महत्वपूर्ण शब्द है -

1-अरबी=अदालत,वकील,औरत,
तारीख, मुकदमा, सुबह, हाँल, इलाज, इस्तफाक, हलवाई, जहाज, क़ब्र।-

फारसी=आदमी,उम्मीदवार,सरकार,शहद,गुलाब,चश्मा,दुकान,मोजा,आवास,मुफ्त,जलेबी,कैँची।

पुर्तगालीशब्द = बाँल्टी, आलपिन, गमला, तम्बाकू, साबुन, तौलिया।

चीनी शब्द =चाय,  तूफान, पटाखा,आदि।

तुर्की शब्द =चाकू, बन्दूक, कैंची।

जापानी शब्द =झम्पान,रिक्सा,   सायोनारा।

अंग्रेजी शब्द =कोर्ट, फीस, अपील, पुलिस, टैक्स, आफिसर, वोट, स्कूल, पैन, पेपर, डाक्टर, नर्स आदि।

डच भाषा =तुरुप, बम।

रूसी भाषा =जार, स्पुतनिक,लूना(चन्द्रमा)आदि।

रचना या बनावट के आधार पर शब्द भेद-

इसके आधार पर शब्द के तीन भेद होते हैं -

1-रुढ़ शब्द  2-यौगिक शब्द
3-योगरूढ़ शब्द

1:रूढ़ शब्द - वे शब्द होते हैं, जो किसी विशेष अर्थ में प्रयोग होते हैं, लेकिन उनके खंडो का कोई अर्थ नहीं होता, वह रूढ़ शब्द कहलाते है।
उदाहरण -सीता, रात, हाथ, कान, आम आदि।

2:यौगिक शब्द - जो शब्द दो या दो के मेल से बनते हैं, तथा उनके सार्थक खण्ड हो सकते हैं। उन्हें यौगिक शब्द कहते हैं।
उदाहरण = दिनेश, सामाजिक, राजपुत्र,विद्यालय,पुस्तकालय,
क्षात्रावास।

3:योगरूढ़ शब्द - जो शब्द दो या दो के मेल से बनते हैं,लेकिन सामान्य अर्थ को प्रकट न करके किसी विशेष अर्थ को प्रकट करते हैं,उन्हे योगरूढ़ शब्द कहते हैं।
उदाहरण -चतुरानन, नीलकंठ,चक्रपाणि,पीताम्बर,
पंकज, जलज, लम्बोदर, दशानन, दशरथ, हनुमान, चारपाई,लालफीतासाही।

3-अर्थ के आधार पर शब्द भेद -

1-एकार्थी 2-अनेकार्थी
 3-पर्यायवाची  4-विलोम
5-भिन्नार्थक 6- वाक्यांश

इसके आधार पर शब्द के तीन भेद होते है -
1: अभिधा 2: लक्षणा 3: व्यंजना

1:-अभिधा = जिनका अर्थ अत्यन्त सरलता से समझ में आ जाता है। उसे अभिधा कहते हैं।
उदाहरण - घर, नगर, सङक,ऊट,हाथी।

2:- लक्षणा - जब शब्द के मुख्य अर्थ से काम नहीं चलता, उस शब्द के लक्षण के आधार पर दूसरा अर्थ निकाल लिया जाता है। उसे लक्षणा शब्द -शान्ति कहते हैं।
उदाहरण -किसी मोटे व्यक्ति को हाथी तथा किसी लम्बे व्यक्ति को ऊँट कहा जाए, गधा आदि।

3:-व्यंजना- जिसके द्वारा अन्य अर्थ का बोध होता है, उसे व्यंजना शब्द कहते हैं।
उदाहरण- शाम हो गई।  कमरा बन्द करो।  दीपक जलाओ। राँत कितनी अँन्धेरी हैं। चोरी के लायक।

एकार्थी - जिनका  केवल एक ही अर्थ हो- गंगा, पटना, राधा।
अनेकार्थी  - हार,  पराजय, गले का हार, कनक-धतूरा, सोना
पर्यायवाची /समानार्थी
विलोम
भिन्नार्थी- अन्न- अन्न, अन्य -दूसरा, अशं-भाग, अंश-कंधा,

प्रयोग के आधार पर - इसके आधार पर शब्द के दो भेद होते हैं।
1:-विकारी शब्द
2:-अविकारी शब्द

1- विकारी = लिंग, वचन, और कारक के कारण जिन शब्दों में विकार अर्थात् परिवर्तन आ जाता है, उसे विकासी शब्द कहते हैं।
उदाहरण - लङका(संज्ञा), मै(सर्वनाम), सुन्दर (विशेषता), आना(क्रिया),तुम(संज्ञा),हम(सर्वनाम) आदि।

2- अविकारी - जिन शब्दों के रूपो में लिंग, वचन, और कारक के अनुसार कोई परिवर्तन नहीं होता उन्हें अविकारी शब्द कहते हैं।
उदाहरण - धीर (क्रिया विशेषण), धीरे, इधर-उधर, और (समुच्चय बोधक और, या, परतें, तो, क्योंकि) अरे!, आदि। (विस्मयादि बोधक)
विकारी शब्द के चार भेद होते हैं -
1-क्रिया विशेषण
2-सम्बंध बोधक
3-समुच्चय बोधक
4-विस्मयादि बोधक

Next Post : संज्ञा 
 
Top