running text.

wife के नाम पर खुलवाएं PPFअकाउंट, 15 साल में मिलेगा 40 लाख


नई दिल्ली।  आप अपनी वाइफ के नाम पर पब्लिक प्रॉविडेंट फंड यानी PPFअकाउंट खुलवा कर उनके लिए 40 लाख रुपए का इंतजाम कर सकते हैं। इस बात की गारंटी भारत सरकार देती है। पब्लिक प्रॉविडेंट फंड यानी PPF स्‍कीम में आप अकाउंट खुलवा कर आप कभी भी निवेश शुरू कर सकते हैं। पीपीएफ अकाउंट में कोई भी व्यक्ति साल में अधिकतम 1.5 लाख रुपए पीपीएफ अकाउंट में निवेश कर सकता है। पीपीएफ अकाउंट में जो पैसा निवेश किया जाता है उस पर टैक्स छूट भी मिलती है।  इसके अलावा पीपीएफ पर आपको जो इंटरेस्‍ट मिलेगा और आप अकाउंट मैच्‍योर होने पर जो फंड बनेगा उस पर कोई टैक्स नहीं देना होगा।

40 लाख के फंड के लिए मंथली 12,000 रुपए करना होगा निवेश 
 
पैसाबाजारडॉटकॉम के सीईओ और को फाउंडर नवीन कुकरेजा ने moneybhaskar.com को बताया कि अगर कोई व्‍यक्ति पीपीएफ में हर माह 12,000 रुपए जमा करता है तो 15 साल में उसके पीपीएफ अकाउंट में 39,31,027 रुपए हो जाएंगे। मौजूदा समय में पीपीएफ पर 7.6 फीसदी इंटरेस्‍ट मिल रहा है। 

मंथली कंट्रीब्‍यूशन 12,000 रुपए 
निवेश की अवधि 15 साल 
मौजूदा इंटरेस्‍ट रेट 7.6 %
कुल फंड 39.32 लाख रुपए 
 

नोट- यह कैलकुलेशन पीपीएफ पर मौजूदा इंटरेस्‍ट रेट 7.6 फीसदी पर किया गया है। केंद्र सरकार पीपीएफ पर इंटरेस्‍ट रेट की हर तीन माह पर समीक्षा करती है। 
मिलती है टैक्स छूट 
 
पीपीएफ का सबसे बड़ा फायदा यह है कि‍ इसमें जमा की गई रकम पर मिलने वाला ब्याज टैक्स फ्री होता है। इतना ही नहीं उस पर मि‍लने वाला ब्‍याज और मैच्‍योरि‍टी पर मि‍लने वाली रकम तीनों ही टैक्‍स फ्री होती है। ऐसे में अगर आप इनकम टैक्स बचाने के लिए सेक्शन 80 सी के तहत पीपीएफ में निवेश करते हैं तो इस पर जमा रकम को अपने दस्तावेजों में शो करके टैक्स की छूट का लाभ भी ले सकते हैं।  
एक आदमी खोल सकता है एक ही अकाउंट 
 
एक व्यक्ति एक ही पीपीएफ अकाउंट खोल सकता है। हां अपने बच्चे यानी नाबालिग के लिए वह उसके बिहाफ पर अकाउंट खोल सकता है। लेकिन जॉइंट अकाउंट नहीं खोला जा सकता। इस अकाउंट को चालू रखने के लि‍ए आपको न्‍यूनतम 500 रुपए सालाना और अधि‍कतम 150000 रुपए सालाना जमा करा सकते हैं। वहीं, अगर बच्‍चे या नाबालि‍ग का अकाउंट है तो सालाना न्‍यूनतम 100 रुपए जमा कराना जरूरी है। वहीं, आपने इस खाते में चालू वित्तीय वर्ष में न्यूनतम कंट्रीब्यूशन नहीं किया है तो आपको प्रति साल के हिसाब से 50 रुपये जुर्माना देना होगा।