70 हजार वेतन, अब दो हजार रुपये मिलेगा पेंशन, शिक्षक को जारी किया गया एनपीएस

 मिर्जापुर जिले के माध्यमिक शिक्षा विभाग में न्यू पेंशन स्कीम के तहत सीखड़ ब्लाक के शंकराश्रम इंटरमीडिएट कालेज से 2019 में सेवानिवृत्त होने वाले अध्यापक का पेंशन जारी कर दिया गया।


 जिले के पहले एनपीएस पाने वाले सहायक अध्यापक रामयज्ञ यादव की हौलनाक स्थिति यह है कि अंतिम वेतन बिल यानी 2019 में 70 हजार रुपये की भारी-भरकम धनराशि पर प्रत्येक महीने साइन करते थे। लेकिन अब 19 सौ 85 रुपये पेंशन हर महीने पाएंगे।

वर्ष-2008 में सहायक अध्यापक के रूप में ज्वाइन करने वाले रामयज्ञ 11 वर्षों तक शिक्षक के रूप में सेवाएं दीं। जब नौकरी मिली थी तब कल्पना तक नहीं की होगी कि बुढ़ापे की लाठी पेंशन इतनी कमी मिलेगी कि परिवार क्या खुद का पेट पालना भी मुश्किल होगा। हालांकि माध्यमिक शिक्षा विभाग के लेखाकारों का तर्क के पूरे सर्विस काल में रामयज्ञ का  छह लाख 91 हजार 670 रुपये की जमा पूंजी थी। जिसमें से 60 प्रतिशत लगभग चार लाख 14 हजार 882 रुपये की धनराशि उनके बैंक खाते में भेंज दी गई है। शेष धनराशि दो लाख 76 हजार 588 रुपये यानी 40 प्रतिशत की धनराशि पर एनपीएस प्रदान किया गया है। एनपीएस की इसी स्थिति को शिक्षक संघ पचा नहीं पा रहा है। न्यू पेंशन स्कीम को खत्म कर पुरानी पेंशन बहाली की आवाज लगातार उठा रहे हैं।